स्वास्थ्य

पुरुषों से ज्‍यादा महिलाओं को प्रभावित करती है थायराइड- डॉ आशीष अनेजा ने बताया थायराइड के लक्षण, कारण और निदान

कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय कुरुक्षेत्र के हेल्थ सेंटर के मेडिकल ऑफिसर डॉ आशीष अनेजा ने थायराइड के बारे में दी जानकारी ।

कुरुक्षेत्र । कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय कुरुक्षेत्र के हेल्थ सेंटर के एडमिनिस्ट्रेटर, गैपियो सदस्य, आर एस एस डी आई मेंबर एवं मेडिकल ऑफिसर, डॉ आशीष अनेजा ने थायराइड के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि थायराइड तितली के आकार की ग्रंथि होती है। यह गर्दन के अंदर और कॉलरबोन के ठीक ऊपर स्थित होती है। थायराइड एक प्रकार की एंडोक्राइन ग्रंथि है, जो हार्मोन बनाती है। थायराइड विकार एक आम समस्‍या है जो पुरुषों से ज्‍यादा महिलाओं को प्रभावित करती है!

प्रमुख तौर पर थायराइड दो प्रकार का होता है – हाइपरथायराइड और हाइपोथायराइड

हाइपरथायराइडिज्‍म में अत्‍यधिक मात्रा में थायराइड हार्मोन बनने लगता है जबकि हाइपोथायराइडिजम में इस हार्मोन का उत्‍पादन कम होता है।

थायराइड ग्रंथि से जुडी अन्‍य गंभीर समस्‍याओं में थायराइड कैंसर का नाम भी शामिल है और ये एंडोक्राइन कैंसर का सबसे सामान्‍य प्रकार है। इन सभी समस्‍याओं के कारण का पता लगाया जा चुका है और टेस्‍ट के ज़रिए इस बीमारी की जांच की जा सकती है।

उचित उपचार की मदद से थायराइड ग्रंथि ठीक तरह से काम कर सकती है। जीवनशैली में कुछ बदलाव लाकर जैसे कि संतुलित आहार और पर्याप्‍त मात्रा में आयोडीन का सेवन एवं तनाव को दूर करने के लिए योग तथा ध्यान की मदद से थायराइड को नियंत्रित किया जा सकता है। थायराइड ग्रंथि से संबंधित समस्‍याओं को नियंत्रित करने के लिए डॉक्टर से नियमित परामर्श और चैकअप करवाते रहना चाहिए।

थायराइड एक एंडोक्राइन ग्रंथि है जो ट्राईआयोडोथायरोनिन (टी3) और थायरोक्सिन (टी4) नामक दो हार्मोन बनाती है। इन हार्मोनों का उत्‍पादन और स्राव थायराइड-स्टिमुलेटिंग हार्मोन (टीएसएच) द्वारा नियंत्रित किया जाता है। टीएसएच पिट्यूटरी में बनता है जिसके स्राव को थायराइड रिलीज करने वाले हार्मोन या टीआरएच द्वारा नियंत्रित किया जाता है। ये हार्मोन शरीर की सामान्‍य चयापचय प्रक्रिया के लिए जिम्‍मेदार होते हैं। थायराइड ग्रंथि के ज्‍यादा या कम मात्रा में हार्मोन बनाने पर थायराइड की समस्‍या उत्‍पन्‍न होने लगती है। ऑटोइम्‍यून या थायराइड ग्रंथि में कैंसरयुक्त या कैंसर रहित कोशिकाओं के बनने या ग्रंथि में सूजन के कारण हार्मोंस के उत्‍पादन में असंतुलन आ सकता है। वैश्विक स्‍तर पर पुरुषों से ज्‍यादा महिलाएं इस बीमारी से ग्रस्‍त होती हैं। 0.5% पुरुषों की तुलना में 5% महिलाएं थायराइड का शिकार होती हैं। थायराइड हार्मोन का कम या ज्‍यादा बनना, शरीर की प्रत्‍येक कोशिका को प्रभावित करता है।

थायराइड संबंधी समस्याएं के लक्षण क्या है- हाइपरथायराइडिज्‍म के सबसे सामान्‍य लक्षण हैं: वजन कम होना,घबराहट, चिंता, परेशानी और मूड बदलना,गलगंड (घेंघा रोग),थकान,सांस फूलना,दिल की धड़कन तेज होना,गर्मी ज्‍यादा लगना,कम नींद आना,अधिक प्‍यास लगना,आंखों में लालपन और सूखापन होना,बाल झड़ना और बालों का पतला होना।
हाइपोथायराइडिज्‍म के सबसे सामान्‍य लक्षण हैं: वजन बढ़ना,थकान,नाखूनों और बालों का कमजोर होना,त्‍वचा का रूखा और पतला होना,बालों का झड़ना,सर्दी ज्‍यादा लगना,अवसाद (डिप्रेशन), मांसपेशियों में अकड़न,गला बैठना,मानसिक तनाव।

थायराइड रोग के निदान कैसे किया जाते है : कभी-कभी, थायराइड रोग के निदान मुश्किल हो सकते है क्योंकि थायराइड रोग के लक्षण अन्य स्थितियों के जैसे होते है जिस से लोग आसानी से भ्रमित हो जाते हैं। जब आप गर्भवती हों या उम्रदराज हों तो आपको इसी तरह के लक्षणों का अनुभव हो सकता है। सौभाग्य से, ऐसे परीक्षण हैं जो यह निर्धारित करने में मदद कर सकते हैं कि क्या आपके लक्षण थायरॉयड समस्या के कारण हो रहे हैं। इन परीक्षणों में शामिल हैं:–
रक्त परीक्षण, इमेजिंग परीक्षण,
शारीरिक परीक्षा।

थायरॉइड रोग किस कारण होता है : थायराइड रोग के दो मुख्य प्रकार हाइपोथायरायडिज्म और हाइपरथायरायडिज्म हैं। दोनों स्थितियां अन्य बीमारियों के कारण हो सकती हैं जो थायरॉयड ग्रंथि के काम करने के तरीके को प्रभावित करती हैं।

हाइपोथायरायडिज्म पैदा करने वाली स्थितियों में शामिल हैं: थायराइडाइटिस : यह स्थिति थायरॉयड ग्रंथि की सूजन कारण होता है। थायराइडाइटिस आपके थायरॉयड द्वारा उत्पादित हार्मोन की मात्रा को कम कर सकता है।

हाशिमोटो का थायरॉयडिटइस: एक दर्द रहित बीमारी, हाशिमोटो का थायरॉयडिटिस एक ऑटोइम्यून स्थिति है जहां शरीर की कोशिकाएं थायरॉयड पर हमला करती हैं और उसे नुकसान पहुंचाती हैं। यह एक आनुवंशिक स्थिति है।
पोस्टपार्टम थायरॉइडाइटिस : यह स्थिति 5% से 9% महिलाओं में बच्चे के जन्म के बाद होती है। यह आमतौर पर एक अस्थायी स्थिति है।

आयोडीन की कमी : हार्मोन का उत्पादन करने के लिए थायराइड द्वारा आयोडीन का उपयोग किया जाता है। आयोडीन की कमी एक ऐसा मुद्दा है जो दुनिया भर में कई मिलियन लोगों को प्रभावित करता है।गैर-कार्यशील थायरॉयड ग्रंथि :कभी-कभी, थायरॉयड ग्रंथि जन्म से ही सही ढंग से काम नहीं करती है। यह 4,000 नवजात शिशुओं में लगभग 1 को प्रभावित करता है। अगर समय पर इलाज नहीं किया जाता है, तो बच्चे को भविष्य में शारीरिक और मानसिक दोनों तरह की समस्याएं हो सकती हैं।

हाइपरथायरायडिज्म पैदा करने वाली स्थितियों में शामिल हैं:-ग्रेव्स रोग : इस स्थिति में संपूर्ण थायरॉयड ग्रंथि अति सक्रिय हो सकती है और बहुत अधिक हार्मोन का उत्पादन कर सकती है। इस समस्या को डिफ्यूज टॉक्सिक गोइटर (बढ़ी हुई थायरॉयड ग्रंथि) भी कहा जाता है।

थायराइडिसिस : यह विकार या तो दर्दनाक हो सकता है या बिल्कुल महसूस नहीं किया जा सकता है। थायरॉइडिटिस में, थायरॉइड जमा हार्मोन को रिलीज करता है। यह कुछ हफ्तों या महीनों तक चल सकता है।

अत्यधिक आयोडीन : जब आपके शरीर में बहुत अधिक आयोडीन (खनिज जो थायराइड हार्मोन बनाने के लिए उपयोग किया जाता है) होता है, तो थायराइड आवश्यकता से अधिक थायराइड हार्मोन बनाता है जिस वजह से हाइपरथायरायडिज्म की स्तिति उत्पन हो जाती है।

इसलिए, यह सलाह दी जाती है कि उचित मात्रा में थायरॉइड हार्मोन की दवाएं (यदि कोई ले रहे हैं) का सेवन करें और बहुत अधिक आयोडीन युक्त खाद्य पदार्थ जैसे नमक, समुद्री शैवाल, मछली आदि खाने से बचें।यदि कोई व्यक्ति बहुत अधिक धूम्रपान करता है तो उसे थायरॉइड विकार हो सकता है। इसलिए जितनी जल्दी हो सके धूम्रपान छोड़ने की सुझाव दी जाती है क्योंकि धूम्रपान थायराइड ग्रंथियों को प्रभावित करता है जो थायराइड हार्मोन को प्रभावित कर सकता है। थायरॉइड विकारों को शायद ही कभी रोका जा सकता है; हालांकि, समय पर थायरॉइड के निदान और उपचार योजना का पालन करके थायराइड विकारों की जटिलताओं को कम किया जा सकता है।

Dainik

Related Articles

Back to top button