खेलदेश-दुनिया

भारत ने 128 खिलाड़ियों की भागीदारी के साथ कबड्डी में बनाया नया गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड


कबड्डी खेल में भारत ने पंचकूला के ताऊ देवीलाल स्टेडियम में लिखा नया इतिहास
हरियाणा के राज्यपाल श्री बंडारू दत्तात्रेय ने हिपसा की अध्यक्षा कांथी डी सुरेश को गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड प्रमाण पत्र किया प्रदान

चंडीगढ़:  विश्व कबड्डी दिवस के अवसर  पर आज भारत ने 128 खिलाड़ियों की भागीदारी के साथ  गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाकर एक नया इतिहास रचा।  कबड्डी  खेल के क्षेत्र में यह नया इतिहास हरियाणा के पंचकूला ज़िला के  ताऊ  देवीलाल स्टेडियम में लिखा गया है।

इस आयोजन में हरियाणा के राज्यपाल श्री बंडारू दत्तात्रेय ने मुख्य अतिथि के रूप में शिरकत की।


गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाने का प्रयास प्रातः 11 बजे गिनीज टीम के निर्णायकों की उपस्थिति में आरंभ हुआ और तीन घंटे के लगातार खेल के बाद, दोपहर 2 बजे 128 खिलाड़ियों की भागीदारी के साथ पूरा हुआ।  गिनीज निर्णायक, श्री स्वप्निल डांगरीकर ने इसकी घोषणा की। विश्व 
कबड्डी  दिवस समारोह का लक्ष्य इस वर्ष एक अनोखा आयोजन करना था, जिसके तहत कबड्डी प्रदर्शनी मैच में सर्वाधिक खिलाड़ियों की भागीदारी के साथ  गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाने का प्रयास किया गया। गिनीज ने रिकॉर्ड तोड़ने के लिए 84 खिलाड़ियों के लिए बेंचमार्क निर्धारित किया था, जबकि आयोजकों ने 154 खिलाड़ियों के साथ नया रिकाॅर्ड बनाकर इस  चुनौती को स्वीकार किया।

हरियाणा के राज्यपाल श्री बंडारू दत्तात्रेय को गिनीज टीम द्वारा गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड प्रमाणपत्र प्रदान किया गया। इसके उपरांत राज्यपाल ने हॉलिस्टिक इंटरनेशनल प्रवासी स्पोर्ट्स एसोसिएशन (एचआईपीएसए) की अध्यक्षा श्रीमती कांथी डी सुरेश और विश्व कबड्डी के अध्यक्ष श्री अशोक दास को यह प्रतिष्ठित प्रमाण पत्र सौंपा।


श्री दत्तात्रेय ने अपने संबोधन में हिपसा की अध्यक्षा सुश्री कांथी डी सुरेश के प्रयासों की सराहना की, जिन्होंने इस आयोजन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उन्होंने भारत के लिए कबड्डी के महत्व और इसे ओलंपिक खेलों में शामिल करवाने के लिए किए जा रहे प्रयासों के बारे में जानकारी दी।

पंचकुला के ताऊ देवीलाल स्टेडियम में उत्साह से भरी दोनों टीमों-  टीम अर्जुन और टीम अभिमन्यु ने संयुक्त रूप से नया विश्व रिकॉर्ड बनाकर भारत का गौरव बढ़ाया। गिनीज रिकॉर्ड के लिए तकनीकी नियम गिनीज टीम और विश्व कबड्डी के सदस्यों द्वारा मिलकर तैयार किए गए। मैच की समयावधि और एक मानक मैच में दुनिया भर में पालन किए जाने वाले नियमों का पालन किया गया।

गौरतलब है कि विश्व कबड्डी दिवस वर्ष 2019 से हर साल 24 मार्च को मनाया जाता है। इस वर्ष विश्व कबड्डी दिवस भारत में मनाया गया और इसके लिए ताऊ देवी लाल स्टेडियम पंचकूला का चयन किया गया।  हिपसा द्वारा विश्व कबड्डी नामक संगठन के साथ मिलकर इस वर्ष का आयोजन संयुक्त रूप से किया गया। भारत और विशेष रूप से हरियाणा को इस आयोजन के लिए चुनने का एक मुख्य कारण विश्व स्तर पर कबड्डी को बढ़ावा देना था। कार्यक्रम में विश्व कबड्डी के विभिन्न सदस्य देशों से आये विदेशी प्रतिनिधियों ने भी अपनी उपस्थिति दर्ज करवाई।

इस कार्यक्रम में हरियाणा मानव संसाधन विभाग के प्रधान सचिव डॉ. डी सुरेश भी उपस्थित रहे। हिपसा की अध्यक्ष सुश्री कांथी डी सुरेश ने मीडिया से बातचीत करते हुए  कहा कि यह सभी के लिए गर्व का क्षण है। भारत 2036 में ओलंपिक की मेजबानी करने का इच्छुक है, यह गिनीज रिकॉर्ड विश्व मानचित्र पर कबड्डी के खेल को लाने की एक पहल है। गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाने के लिए समर्पण, तैयारी और दृढ़ता की आवश्यकता होती है। उन्होंने बताया कि  कबड्डी प्रदर्शनी मैच में सबसे अधिक खिलाड़ियों की भागीदारी के लिए गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड आधिकारिक तौर पर पंचकूला में हिपसा और वर्ल्ड कबड्डी को प्रदान किया गया।

इस अवसर पर सचिव विश्व कबड्डी एसटी अरासू, उपायुक्त सुशील सारवान, पुलिस उपायुक्त हिमाद्रि कौशिक, एसडीएम गौरव चौहान, सीईओ जिला परिषद गगनदीप सिंह, नायब तहसीलदार हरदेव सिंह और अन्य गणमान्य व्यक्ति भी उपस्थित थे।

Online Dainik Bhaskar

Related Articles

Back to top button