राजनीति

16 फरवरी को चक्का जाम- एक प्लेटफॉर्म पर आई हरियाणा रोड़वेज की तमाम कर्मचारी यूनियन

सरकार की वायदा खिलाफी व मानी गई मांगो को लागू न करने के विरोध में 16 फरवरी चक्का जाम करेंगे रोडवेज कर्मचारी।

 

हरियाणा रोडवेज कर्मचारी सांझा मोर्चा की आवश्यक बैठक कामरेड बलदेव घणघस रोडवेज भवन रोहतक में संम्पन हुई ।
बैठक में जयबीर घणघस, सुमेर सिवाच,वीरेन्द्र सिंगरोहा,विनोद शर्मा,जगदीप लाठर,अमित महाराणा,संजीव कुमार,सुनील कुमार,मनोज चहल,सुरेन्द्र कुमार,बलराज देशवाल,बलवान दोड़वा,आजाद यादव आदि ने भाग लिया।

सभी वरिष्ठ सदस्यों ने बताया कि पिछले दिनों प्रदेश सरकार से पांच दौर की बातचीत के बाद भी कर्मचारियों की मानी गई मांगों को भी लागू नहीं कर रही हैं। केंद्र व प्रदेश सरकार की वायदाखिलाफी के खिलाफ केंद्रीय ट्रेड यूनियनों के आह्वान पर होने वाले 16 फरवरी 2024 को भारत बंद में सभी डिपो में चक्का जाम किया जाएगा।

 

मुख्य मांगो में हिट एंड रन भारतीय न्याय संहिता काले कानून को तुरंत वापिस लिया जाए।

  1. किलोमीटर स्किम की बसों पर ठेके पर लेने की नीति व 265 मार्गो पर असिमत परमिट पॉलिसी को वापिस लेकर रोडवेज बेड़े में ओर नई बसे खरीदी कर शामिल किया जाए।
  2. परिचालक/चालक व लिपिकों का पे ग्रेड बढ़ाया जाए। चालक/परिचालकों/निरीक्षक उप- निरीक्षकों व कर्मशाला के कर्मचारियों का देय अवकाश कटौती पत्र वापिस लिया जाए।
  3. वर्ष 2016 में भर्ती हुए चालकों सहित दादरी डिपो के 52 हेल्परों को पॉलिसी बना कर पक्का किया जाए
  4. बसों की मरम्मत का कार्य कम्पनी को न दिया जाए
  5. वर्ष 1992 से 2002 तक भर्ती हुए चालकों सहित सभी कर्मचारियों को नियुक्ति तिथि से पक्का करके इन्हें पुरानी पेंशन योजना में शामिल किया जाए
  6. दिनांक 28 November 2005 से पहले भर्ती प्रकिया के तहत 2006 के बाद भर्ती होने वाले सभी कर्मचारियों को सरकार के आदेशों अनुसार पुरानी पेंशन योजना में शामिल किया जाए
  7. ग्रुप D के कर्मचारियों को कॉमन कडर से बहार करके तकनीकी पदों पर प्रमोशन की जाए,बकाया कई वर्षों के बोनस का भुगतान किया जाए,तकनीकि वेतनमान से वंचित कर्मचारियों को तकनीकी वेतन मान दिया जाए
  8. ट्रांसपोर्ट एक्ट 1961 अनुसार आठ घण्टे की ड्यूटी ली जाए
  9. 8 घण्टे से अधिक ड्यूटी का ओवर टाईम दिया जाए।

सभी नेताओं ने सरकार को स्पस्ट चेतावनी देने हुए कहा कि सरकार मानी हुई मांगो को लागू करे।अन्यथा 16 फरवरी की हड़ताल को आगे बढ़ाया जा सकता हैं।जिसकी सारी जिम्मेदारी सरकार की होगी।

Online Dainik Bhaskar

Related Articles

Back to top button