राजनीतिस्वास्थ्य

प्रदेश में 1000 आयुष सहायकों की नियुक्ति: मुख्यमंत्री

 

  • योग का नया जॉब मार्केट हो रहा तैयार
  •  जीरो कीमत पर स्वास्थ्य अच्छा रखने का सरल तरीका योग
  •  योग मानस पोर्टल व मोबाइल एप्लीकेशन शुरू: मनोहर लाल

चंडीगढ़ l हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने कहा कि सरकार ने योग को नागरिकों की दिनचर्या में शामिल करने का संकल्प किया है। इसीलिए प्रदेशभर में योगशालाएं स्थापित करने और 1000 आयुष सहायकों की नियुक्ति करने का लक्ष्य रखा गया है। इनमें से 882 आयुष योग सहायकों ने विभिन्न योगशालाओं में कार्यभार ग्रहण कर लिया है व शेष आयुष योग सहायकों की भर्ती का कार्य हरियाणा कौशल रोजगार निगम के माध्यम से प्रगति पर है। इसके दूसरे चरण में एक हजार और व्यायामशालाओं पर कार्य जल्द ही शुरू किया जायेगा। मुख्यमंत्री आज पंचकूला में आयोजित योग एवं आयुष सहायक प्रशिक्षण शिविर को सम्बोधित कर रहे थे।

        उन्होंने कहा कि हर जिले में  कोऑर्डिनेटर नियुक्त किए गए जो हर माह की 21 तारीख को गांव के योग सहायकों से रिपोर्ट लेकर मुख्यालय को भेजेंगे। इसके अलावा दूसरे चरण में सभी जिलों मंे विशेष योग कोच लगाए जाएंगे जो योग सहायकों को समय समय पर प्रशिक्षण देने का भी कार्य करेंगे। उन्होंने कहा कि व्यायामशालाओं में बायोमीट्रिक मशीन उपलब्ध करवाई जाएगी जिसमें योग साधकों की भी हाजिरी लगाई जाएगी। उन्होंने कहा कि हर साल योग सहायकों की ग्रेडिंग का कार्य किया जाएगा जिसमें हर जिले में प्रथम द्वितीय एवं तृतीय स्थान पर आने वाले योग सहायकों को पुरस्कार भी प्रदान किए जाएगें।

         मुख्यमंत्री ने राज्य के 6500 गांवों में व्यायामशालाएं खोलने और इनकी जिम्मेदारी योग सहायकों  को सौंपने की घोषणा की। उन्होंने कहा कि योग सहायकों का नजदीक स्थानांतरण करने पर विचार किया किया जाएगा। उन्होंने कहा कि जिन गांवों में व्यायामशालाएं हैं उनमें गांव में आबादी अनुसार वेलनेस सेंटर खोले जाएंगे जिनमें योग को बढ़ावा देने और लोगों को आहार व्यवहार आदि दिनचर्या के बारे में अवगत करवाया जाएगा। इसके लिए व्यापक स्तर पर प्रचार प्रसार भी किया जाएगा।

        मुख्यमंत्री ने कहा कि नशा मुक्त हरियाणा के लिए साइक्लोथॉन कार्यक्रम चलाया गया जिसमें एक लाख 60 हजार युवाओं ने साइकिल चलाकर लोगों को नशे के विरुद्ध जागरूक किया। इससे लोगों में जागृति आई हैं

         उन्होंने प्रदेश के सभी नागरिकों का आह्वान किया है कि वे योग को अपने जीवन का हिस्सा बनाकर एक स्वच्छ स्वस्थ और समृद्ध भारत का निर्माण करने में अपना भरपूर योगदान दें। उन्होंने कहा कि योग करेगा इंडिया तभी तो निरोग रहेगा इंडिया।

        मुख्यमंत्री ने कहा कि आज पूरे देश में उत्सव का माहौल है। मानवता के पुजारी राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 154वीं जयंती को विश्व अहिंसा दिवस के रूप में मना रहा है। आज ही देश को जय जवान.जय किसान का प्रेरणादायी नारा देने वाले पूर्व प्रधानमंत्री श्री लाल बहादुर शास्त्री की 120वीं जयंती भी है। उन्होंने इस पावन अवसर की सबको हार्दिक बधाई व शुभकामनाएं देते हुए राष्ट्रपिता महात्मा गांधी और श्री लाल बहादुर शास्त्री को श्रद्धापूर्वक नमन किया।

        मुख्यमंत्री ने कहा कि इस पावन दिन पर योग को बढावा देने के लिए कार्यक्रम का आयोजन प्रदेश में योग को लोगों की दिनचर्या का हिस्सा बनाने के उद्देश्य किया जा रहा है। प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के प्रयासों से योग को पूरे संसार में पहचान मिली है। उनके प्रयासों से विश्व भर में 21 जून को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाया जाता है। प्रधानमंत्री ने संयुक्त राष्ट्र की महासभा में अपने पहले भाषण में अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाने की जोरदार पैरवी की थी। उन्होंने कहा था.योग हमारी प्राचीन परम्परा का अमूल्य उपहार है। योग मन और शरीरए विचार और कार्य तथा अवरोध और सिद्धि को साकार रूप प्रदान करता है। योग व्यक्ति और प्रकृति के बीच सामंजस्य बनाता है। यह केवल व्यायाम नहींए बल्कि यह प्रकृति और मनुष्य के बीच की कड़ी है।

        मुख्यमंत्री ने कहा कि योग को घर.घर पहुंचाने की जिम्मेदारी योग सहायकों की है। लेकिन यह घर.घर तभी पहुंचेगा जब हम लोगों को इसके लाभ समझाने में सफल होंगे। इसका सबसे महत्वपूर्ण लाभ यह है कि जीरो कीमत पर स्वास्थ्य अच्छा रखने का अगर कोई सरल तरीका है तो केवल मात्र योग ही है। योग जीवन जीने विचारों और कार्यों में संतुलन बनाने का एक अनूठा तरीका है। यह सभी प्राचीन परंपराओं की तरह जीवंत और गतिशील है।  योग मन व बुद्धि को शरीर से जोड़ता है। योग सहायकों के सफल प्रयासों से आमजन योग में मास्टर और अभ्यासु अवश्य बन सकते हैं।

         मुख्यमंत्री ने कहा कि योग टीचर की हर दिन मांग बढ़ रही है। योग का नया जॉब मार्केट तैयार हो रहा है और अनेक योग प्रशिक्षक प्रतिदिन प्रातःकाल की वेला में योग कक्षाएं लगा रहे हैं। लेकिन इनका प्रचलन शहरों तक सीमित है इसलिए हमने गांवों में योगशालाएं खोलने और सहायक नियुक्ति करने का निर्णय लिया। अब ग्रामीण भारत में योग के प्रसार की जिम्मेदारी योग सहायकों के कंधों पर है। इस नियुक्ति को नौकरी न मानते हुए एक मिशन समझेंगे तो इस काम में जल्द सफलता प्राप्त करेंगे।

योग मानस पोर्टल व मोबाइल एप्लीकेशन शुरू

        मुख्यमंत्री ने कहा कि योगशालाओं में होने वाली योग गतिविधियों की निगरानी के लिए योग मानस पोर्टल व मोबाइल एप्लीकेशन शुरू किया है। इस पर प्रतिदिन के कार्यों की रिर्पोट डाल सकते हैं। पोर्टल पर निजी संगठन एवं गैर सरकारी योग संस्थाओं के पंजीकरण के लिए भी योजना बनाई जा रही है ताकि उनके द्वारा की जाने वाली योग गतिविधियों की दैनिक आधार पर निगरानी की जा सके।

        मुख्यमंत्री ने कहा कि आम आदमी की यह अवधारणा थीए कि योग साधु.संतों एवं योगियों के लिए है और इसे आश्रमोंए जंगलों और गुफाओं में रहकर ही किया जा सकता है। लेकिन आज की भागदौड़ की जिंदगी में गृहस्थियों द्वारा भी घर पर भी योग करना आवश्यक है।

प्रदेश में योग एवं आयुर्वेद का प्रसार

        मुख्यमंत्री ने कहा कि योग के महत्व को देखते हुए हरियाणा में नई पीढ़ी को योग प्रशिक्षण व योग साधना के लिए प्रेरित किया है। प्रदेश के स्कूलों कॉलेजों और विश्वविद्यालयों में भी योग सिखाया जा रहा है। शैक्षणिक सत्र 2022.23 से कक्षा पहली से 10वीं कक्षा तक योग शिक्षा को अनिवार्य विषय के रूप में शामिल किया गया है। इसके साथ ही योग को बढ़ावा देने के लिए हरियाणा योग आयोग का गठन किया गया है।

        उन्होंने कहा कि योग एवं आयुर्वेद को बढ़ावा देने के लिए कुरुक्षेत्र में श्रीकृष्णा आयुष विश्वविद्यालय की स्थापना की गई है। इसके अलावा पंचकूला में राष्ट्रीय आयुर्वेद योग एवं प्राकृतिक चिकित्सा संस्थान की स्थापना की जा रही है। झज्जर जिला के गांव देवरखाना में पोस्ट ग्रेजुएट योग एवं प्राकृतिक चिकित्सा एवं अनुसंधान संस्थान की स्थापना गई है।

गांवों में योग एव व्यायामशालाए तथा आयुष विंग खोलने का निर्णय

        मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार योग को बढ़ावा देने के लिए राज्य के 6500 गांवों में व्यायामशालाएं खोलने के लिए प्रतिबद्ध हैं। इसके लिए 1121 जगहों को चिह्नित किया गया है। इनमें से 718 व्यायामशालाओं का निर्माण कार्य पूर्ण हो गया है व 273 योग एवं व्यायामशालाओं का निर्माण कार्य प्रगति पर है। प्रदेश में जिला स्तर पर आयुष विंग स्थापित किये गए हैं जिनमें योग विशेषज्ञों की नियुक्ति की गई है।

        उन्होंने कहा कि राज्य में सभी आयुर्वेदिक औषधालयों को आयुष हेल्थ एण्ड वैलनेस सेंटर में अपग्रेड करने का निर्णय लिया गया है। अब तक 386 आयुर्वेदिक औषधालयों को आयुष हेल्थ एण्ड वैलनेस सेंटर में अपग्रेड कर दिया गया है । इन आयुष हेल्थ एण्ड वेलनेस सेंटर मे योग इंस्ट्रक्टर की नियुक्ति की जाएगी जो आमजन को योग से जीवन शैली में सुधार और बीमारियों से बचने के तौर तरीकों की जानकारी देंगे।

        मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार ने प्रदेशवासियों को योग के साथ.साथ प्राचीन चिकित्सा पद्धतियों के महत्व से भी अवगत करवाने का काम किया है। प्रदेश में सामाजिक समरसता कायम करने और संत.महापुरुषों के जीवन से प्रेरणा लेने के उद्देश्य से उनकी जयंतियां राज्य स्तर पर मनाई जाती है उसी प्रकार भारत की प्राचीन चिकित्सा पद्धतियों की उपयोगिता को देखते हुए इन पद्धतियों के लिए भी विशेष दिवस निर्धारित किए हैं।

        इस अवसर पर अतिरिक्त मुख्य सचिव अनिल मलिक मुख्यमंत्री के अतिरिक्त प्रधान सचिव एवं महानिदेशक सूचना लोक सम्पर्क भाषा तथा संस्कृति विभाग के महानिदेशक डॉ अमित अग्रवाल आयुष विभाग के महानिदेशक डॉ साकेत कुमार हरियाणा योग आयोग के अध्यक्ष डॉ जयदीप आर्य उपायुक्त सुशील सारवान अतिरिक्त उपायुक्त वर्षा  खंगवाल  पंचकूला के मेयर कुलभूषण गोयल कुलपति श्रीकृष्णा आयुष विश्वविद्यालय करतार सिंह धीमान शिवालिक विकास बोर्ड के उपाध्यक्ष ओमप्रकाश देवी नगर भाजपा जिला अध्यक्ष अजय शर्मा पूर्व विधायक लतिका शर्मा अन्य अधिकारीगण एवं योग साधक उपस्थित रहे।

Online Dainik Bhaskar

Related Articles

Back to top button