तकनीकीबिज़नेस

उद्यमशीलता और नवाचार को अपनाये युवा, अपने आसपास नये आइडिया खोजते रहेः कुलपति

-जे.सी. बोस विश्वविद्यालय द्वारा दो दिवसीय उद्यमिता शिखर सम्मेलन-2024 का आयोजन

चंडीगढ़/फ़रीदाबाद- हरियाणा के फ़रीदाबाद स्थित जे.सी. बोस विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, वाईएमसीए के आईपीआर, इनोवेशन, इनक्यूबेशन और स्टार्टअप डिवीजन और प्रबंधन अध्ययन विभाग के संयुक्त तत्वावधान में दो दिवसीय उद्यमिता शिखर सम्मेलन-2024 का आयोजन किया गया। यह सम्मेलन केन्द्रिय विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग के पर्स कार्यक्रम के तहत प्रायोजित किया गया है, जिसका उद्देश्य स्टार्टअप्स के समक्ष आने वाली मानव संसाधन चुनौतियों पर चर्चा को बढ़ावा देना, व्यावहारिक संवाद और परस्पर अनुभव साझा करने के लिए मंच प्रदान करना है।

सम्मेलन के उद्घाटन सत्र में औद्योगिक विशेषज्ञों में प्रॉम्पटेक इंडस्ट्रियल प्रोडक्ट्स प्राइवेट लिमिटेड के प्रबंध निदेशक, श्री नरेश ग्रोवर, पीओपी, उद्यमिता, डीटीयू एवं संस्थापक, कॉर्पोरेटवेंचरहब.कॉम प्रो. एस एम रौनाक मुस्तफा, हरियाणा के हाट्र्राेन इनोवेशन एंड स्टार्टअप हब के पूर्व प्रमुख राजीव गुलाटी और टीआईई-दिल्ली एनसीआर की संयुक्त एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर उपासना शर्मा मुख्य रूप से उपस्थित रहे तथा प्रतिभागियों के साथ अपना अनुभव साझा किया। सत्र की अध्यक्षता विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर सुशील कुमार तोमर ने की, जिन्होंने पूरी चर्चा के दौरान मार्गदर्शन प्रदान किया।

प्रो. तोमर ने अपने संबोधन में युवाओं के बीच उद्यमशीलता की मानसिकता को बढ़ावा देने, उन्हें नवाचार को अपनाने और केवल नौकरी चाहने वालों के बजाय अवसरों के निर्माता बनने के लिए प्रोत्साहित किया। उन्होंने आर्थिक वृद्धि और सामाजिक विकास को आगे बढ़ाने में उद्यमिता की महत्वपूर्ण भूमिका पर बल दिया। उन्होंने युवाओं को अपने आसपास नये आइडिया खोजने तथा सतत पर्यावरण को बढ़ावा देने के लिए प्रेरित भी किया।

सम्मेलन के दौरान स्टार्टअप्स के समक्ष आने वाली मानव संसाधन चुनौतियों पर महत्वपूर्ण चर्चाएं जारी रही, जिसमें एमहेल्थएआई के संस्थापक और सीईओ श्री राजेश मुंजाल, मानव संसाधन विशेषज्ञ श्री हीरेश गिरधर, कॉसेट नेटवर्क, ऑनबेंचमार्क के संस्थापक और सीईओ सैयद फरहान, क्षमता निर्माण एवं नेतृत्व विकास विशेषज्ञ श्री आनंद द्विवेदी, एफएमए की अध्यश्क्ष और एचआर बिजनेस सलाहकार और कोच सलोनी कौल जैसे सम्मानित पैनलिस्ट शामिल रहे, जिन्होंने विषय पर अपना अनुभव साझा किया।

आईपीआर, इनोवेशन, इनक्यूबेशन और स्टार्ट-अप डिविजन के प्रभारी डॉ. संजीव गोयल ने कार्यक्रम का व्यापक परिचय दिया। पर्स प्रोग्राम डीएसटी के समन्वयक डॉ. रवि कुमार, पर्स प्रोग्राम डीएसटी के सह-समन्वयक डॉ. दीपांश शर्मा, डॉ. प्रमोद कुमार, डॉ. सोमवीर बजार और डॉ. सूरज गोयल सम्मेलन के सफल संचालन में अपना योगदान दिया।

Online Dainik Bhaskar

Related Articles

Back to top button