स्वास्थ्य

आयुर्वेद की महत्ता स्वीकार रही है पूरी दुनिया : डा. शेफाली रखेजा

भिवानी में आयुर्वेद एंड पंचकर्मा सैंटर का हुआ उद्घाटन

भिवानी : भारत जहां आयुर्वेद का आविष्कार हुआ, पहले लोग इसे नजरअंदाज कर रहे थे, लेकिन कोरोना काल ने देशवासियों को आयुर्वेद का महत्व बता दिया। जिसके बाद आज पूरा विश्व आयुर्वेद की ओर तेजी से बढ़ रहा है तथा थोड़े समय में ही स्थिति बदली है तथा अब लोगों को इस बात का अंदाजा हो गया है कि बिना किसी नुकसान के आयुर्वेद सबसे बेहतर इलाज प्रक्रिया है। इसी सोच के साथ मंगलवार को स्थानीय चिडिय़ाघर मोड़ के नजदीक आयुर्वेद एंड पंचकर्मा सैंटर का उद्घाटन किया गया, ताकि लोगों को आयुर्वेद के सहारे सही व सस्ता उपचार मुहैया करवाया जा सकें। इस अवसर पर बतौर मुख्यअतिथि अहमदाबाद से एक्सपर्ट आयुर्वेद एवं कैंसर स्पेशलिस्ट वरिष्ठ वैद तपन कुमार ने शिरकत की।

 

इस मौके पर सेंटर संचालक डा. शेफाली रखेजा ने कहा कि सैंटर में बिना किसी दवा के पुरानी बीमारियों का भी पंचकर्म पद्धति से इलाज किया जाएगा। उन्होंने कहा कि आयुर्वेद संपूर्ण विधा है, जिसका कोई साईड इफेक्ट नहीं होता तथा आयुर्वेद के सहारे बीमारी को जड़ से खत्म किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि आयुर्वेद की महत्ता आज पूरी दुनियां स्वीकार कर रही है।

इस अवसर पर डा. रविराज, डा. एच मेहता, डा. तुषार मेहता, डा. आरबी गोयल, डा. सतीश आर्य, श्रीमति दीक्षित, श्रीमती सरीन, डा. पुलकित आर्य  सहित अनेक गणमान्य लोग मौजूद रहे।

Online Dainik Bhaskar

Related Articles

Back to top button